Tag: Life poems

मैं, मेरी हिम्मत !

| July 21, 2018 | Sonam Kharwar | 0

अपनो से दूर, अजनबी शहर में। कुछ है ज़रूर, इस नए सफर में।। सीखा है मैंने, खुद को ही जीना। रुकना नही, चलते है रहना।।…Read More

तुम ना होते

| July 12, 2018 | Sonam Kharwar | 1

तुम ना होते, तो क्या होता। ज़िन्दगी का तज़ुर्बा, कुछ नया होता। मिलने को तुझसे, मन परेशान ना होता। हर वक्त लबों पे, तेरा नाम…Read More

ज़िन्दगी का सामना

| June 18, 2018 | Sonam Kharwar | 2

जब अंत है मौत, तो किस्से दरें हम। आ ज़िन्दगी तेरा सामना करें हम।। आंसुओं से लड़, खुशियों को जीते हम। आ ज़िन्दगी तेरा सामना…Read More

गरीब

| June 12, 2018 | Sonam Kharwar | 0

इंसान को इंसान से, बहुत दूर कर जाती है। वो और कुछ नही मित्र, गरीबी कहलाती है। बरसात की बझाड़ में, भीगता शरीर है। महँगाई…Read More

आहत तो होते हैं हम!

| April 25, 2018 | Usha Kedia | 0

बेशक तुम्हें दिखाते नही हैं पर आहत तो होते हैं हम, जब भी कभी तुम दिखाते हो आँखे, सहम जाते हैं हम, ना जाने कितनी…Read More

To Top